नया साल, नया संकल्प: दूध छोड़, दया जोड़!

नया साल 2020 बस आने को ही है। यह मौका है जब हर कोई उत्साहित होता है और सोचने लगता है कि क्या नया किया जाए इस आने वाले नए साल में। यह एक अच्छी प्रथा है कि नए वर्ष में हम पुरानी बातों, पुरानी आदतों को भूला कर हर वर्ष कुछ नया करने का संकल्प लेते हैं।

हम सिर्फ अपने लिए ही क्यों? क्यों नहीं ऐसा संकल्प लें जो हमारे साथ-साथ इस धरती पर सभी प्राणी मात्र के लिए लाभकारी हो?

नया साल 2020

हाल ही में भारत के आयुष मंत्रालय ने अपने ट्विटर और फेसबुक में एक अपडेट किया। अपने विभिन्न सोशल मीडिया अकाउंट के जरिये एक ऐसा new year resolution idea दिया जो अकसर किसी भी देश की सरकार देने से बचती है।

अपने twitter और facebook अकाउंट के माध्यम से आयुष मंत्रालय का कहना था कि “अभी तक आपने कोई नए साल का संकल्प नहीं लिया ? तो मांस और डेयरी को छोड़ दें और अच्छे के लिए January को Veganuary बनायें।

वैसे तो डेयरी और मांस उद्योग के दबाव में सरकार कभी ऐसा ईमानदार सुझाव नहीं देती है लेकिन ऐसा हुआ यह एक बदलाव का संकेत है लेकिन इस पोस्ट को सोशल मिडिया से कुछ ही समय में हटा देना इस बात की भी पुष्टि करता है कि सरकारों द्वारा जनता के लिए दिए जाने वाले सन्देश जनता के हितों के लिए नहीं वरन किसी वित्तीय लाभ-हानि के तराजू में तौल कर ही दिए जाते हैं।

खैर, यह बात तो सरकार द्वारा दिए गए सन्देश की है लेकिन आज के तेजी से आने वाली सूचनाओं के दौर में जनता सिर्फ सरकारों द्वारा दिए जाने वाली सूचनाओं पर ही निर्भर नहीं है और हर तरह की सूचनाएँ आम-जन तक सहज और सुलभ है। अब अच्छे बुरे का फैसला, प्राप्त जानकरियों के आधार पर कोई भी लेने को स्वतंत्र है।

नए साल का संकल्प !

संकल्प तो कुछ भी लिया जा सकता है लेकिन अगर कोई बात आपको काफी समय से अंदर से विचलित कर रही है लेकिन आप अनिर्णय की स्तिथि में हैं तो यह नव वर्ष 2020 आपके लिए एक बेहतर मौका है अपने आप से एक नया संकल्प लेने का।

यहाँ हम बात कर रहे हैं दूध और दूध के उत्पादों के सेवन के सन्दर्भ में। अगर अभी तक आप डेयरी में निहित क्रूरताओं के बारे में सब कुछ जान चुके हैं लेकिन डेयरी उत्पादों को नहीं छोड़ पा रहे हैं तो यही मौका है कहने का दूध छोड़, दया जोड़!

लेकिन फिर भी आप आगे बढ़ने में हिचकिचा रहे हैं तो शुरुआत एक छोटे से संकल्प से भी की जा सकती है। जी हाँ आप जुड़ सकते हैं हमारे आंदोलन बुध को दूध नहीं से। यहाँ बस आपको अपने आप से एक वादा करना है कि आप सप्ताह में एक दिन बुधवार को किसी भी तरह के दूध उत्पादों का सेवन नहीं करेंगे और औरों को भी इस के लिए प्रेरित करेंगे।

जीवन में कभी-कभी एक छोटी सी शुरुआत भी आगे चल कर जीवन को बदलने में सक्षम होती है। हिचकिचाएं नहीं, आगे बढ़ें!

नया साल आप सबके लिए मंगलमय हो!

Dairy Farm की मालकिन कैसे और क्यों बनी वीगन?

Ditch Dairy

Be the first to reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *