क्या होते हैं वीगन दूध? What are plant-based milk?

Plant-based milk या कहें कि वीगन दूध। जैसा कि पढ़ने से ही पता चलता है कि यह पेड-पौधों के विभिन्न भागों से बनाया गया दूध होता है। आज जब किसी भी पशु-दूध में निहित क्रूरता जग जाहिर है तब इस तरह के दूध के बारे में लोगों का रुझान बढ़ता जा रहा है।

वीगन दूध न सिर्फ किसी भी क्रूरता से मुक्त होते हैं बल्कि स्वास्थय के लिए गुणकारी भी होते हैं। वीगन दूध में रेशे (Fibers) की मात्रा भी होती है जो किसी भी पशु दूध में नहीं पायी जाती है।

Plant based milk के प्रकार

जिस तरह पशु-दूध विभिन्न प्रकार के जानवरों से प्राप्त किये जाते हैं उसे तरह वीगन दूध भी कई प्रकार के होते हैं।

वीगन दूध की मुख्य विशेषता यह होती है कि इन्हे घर पर जरूरत के हिसाब से ताज़ा बना कर उपयोग में लाया जा सकता है। वैसे तो आजकल बाजार में भी विभिन्न प्रकार के प्लांट बेस्ड मिल्क मिल जाते हैं लेकिन अगर इस तरह के दूध को ताज़ा बना कर उपयोग में लाया जाए तो ज्यादा स्वादिष्ट और गुणकारी होते हैं।

Different Types of Plant Based Milk

सोया मिल्क

वीगन दूध का जिक्र होते ही सबसे पहले सोया दूध की बात होती है। यह सबसे ज्यादा उपयोग किये जाने वाला वनस्पति आधारित दूध है। सोया मिल्क के कई ब्रांड बाज़ार में भी उपलब्ध है लेकिन घर पर ताज़ा बनाया जाने वाला सोया दूध बाजार के मुकाबले बहुत ही सस्ता भी पड़ता है।

इसको बनाने की विधि बहुत ही आसान है। सोयाबीन को 6-8 घंटे पानी में भिगो कर उसके छिलके उतार लें और पानी के साथ पीस लें। इसको एक उबाल ले कर ठंडा कर छान लें। आपका दूध तैयार है। पूरी विधि इस वीडियो में देख सकते हैं।

सोया दूध के उपयोग

सोया दूध से दही और पनीर भी बनाया जा सकता है। सोया पनीर जिसे टोफू भी कहते हैं, इसके गुणों के कारण आजकल बहुत लोकप्रिय है।

इससे चाय, कॉफी, शेक आदि भी बनाये जा सकते हैं।

नारियल दूध

नारियल का दूध भी आजकल लोकप्रिय होता जा रहा है। ताज़ा बनाया हुआ नारियल दूध और इससे बनी चाय या काफी बहुत ही स्वादिष्ट बनती है। जहाँ तक हो सके इसे उबालने से बचना चाहिए।

इस दूध को बनाने के लिए ताज़ा नारियल की गिरी को पानी के साथ पीस कर बस छानना होता है। नारियल दूध और फिर इससे चाय बनाने की पूरी विधि आप नीचे वीडियो में देख सकते हैं।

नारियल दूध के उपयोग

चाय और कॉफ़ी बनाने के अतिरिक्त गाढ़े नारियल दूध से दही भी जमाया जा सकता है और इससे आइसक्रीम भी बना सकते हैं। आइसक्रीम बनाने की विधि

बादाम और काजू का दूध

बादाम और काजू पढ़ कर ऐसा लगता है कि यह बहुत महंगा होता होगा। हाँ बाज़ार में जरूर थोड़ा महंगा मिलता है लेकिन घर पर बहुत कम कीमत पर आसानी से बनाया जा सकता है।

इसको बनाना भी बहुत ही आसान है। काजू या बादाम जिसका भी दूध बनाना हो उसे 5-6 घंटे के लिए पानी में भिगो दें और ताज़े पानी के साथ पीस कर छान लें। बादाम का दूध बनाने की पूरी विधि नीचे वीडियो में देख सकते हैं।

बादाम दूध के उपयोग

चाय या कॉफ़ी बनाने के अलावा इससे खीर भी बनायीं जा सकती है। खीर बनाने की विधि

Oat Milk (जई का दूध )

ओट्स को एक बहुत ही स्वास्थवर्धक अनाज माना जाता है। यह शरीर में कोलोस्ट्रोल की मात्रा कम करने में सहायक है। हमारे देश में धीरे धीरे ओट्स का प्रचलन बढ़ता जा रहा है और इसे सुबह नाश्ते में नमकीन या मीठा बना कर खाया जाता है।

ओट्स का दूध बनाना बेहद आसान है। 100 ग्राम ओट्स से लगभग 1 लीटर गाढ़ा दूध तैयार हो जाता है। नीचे वीडियो में आप पूरी विधि देख सकते हैं।

ओट्स दूध के उपयोग

ताज़े बने ओट्स दूध में आप अपनी पसंद की मिठास डाल कर पी सकते हैं। इसको गर्म करने पर यह और भी गाढ़ा हो जाता है इसलिए इसे अन्य plant based milk के साथ मिला कर विभिन्न रेसिपीज बनाने में भी उपयोग किया जा सकता है। कोई भी smoothie बनाने में यह दूध बहुत उपयोगी है।

अन्य वीगन दूध

इनके अतिरिक्त और भी विभिन्न Nuts और Seeds का भी दूध बनाया जा सकता है। चूँकि हर दूध की विशेषता अलग-अलग होती है इसलिए दो या तीन प्रकार के दूध को मिला कर भी जरूरत के हिसाब से दूध तैयार किया जा सकता है।

काजू और ओट्स का दूध

भारत में हाल ही में Cashew and oat milk बाज़ार में आया है जो 200 मिली की पैकिंग में उपलब्ध है। यह दूध चाय और कॉफ़ी के लिए बहुत अच्छा है। इसे ऑनलाइन यहाँ से ख़रीदा जा सकता है https://goodmylk.in/

काजू-ओट्स का दूध घर पर बनाना भी बेहद आसान है और यह लगभग 40 रु लीटर ही पड़ता है। अगर आप भी बनाना चाहते हैं तो एक चौथाई काजू के टुकड़े और 3 छोटे चम्मच ओट्स को 5-6 घंटे के लिए पानी में भिगो दें। जिस पानी में भिगोया है उसको निकल कर 250 मिली पानी के साथ पीस कर छान लें। इस प्रक्रिया को एक बार पुन: दोहराएं इस तरह 500 मिली दूध तैयार हो जायेगा जो फ्रिज में 3–4 दिन तक ख़राब नहीं होता।

मूंगफली का दूध

इस दूध को भी बादाम या काजू के दूध की तरह ही बनाया जाता है। इसमें मूंगफली की विशिष्ट गंध होती है इसलिए इसका सबसे अच्छा उपयोग दही बनाने में किया जा सकता है। गाढ़ा दूध बना कर उसका दही बहुत अच्छा बनता है।

Rice milk चावल का दूध

यह ज्यादातर ब्राउन राइस से बनाया जाता है। अधिकांश चावल के दूध की किस्मों में मिठास एक प्राकृतिक एंजाइमेटिक प्रक्रिया से उत्पन्न होती है। यह दूध अन्य वीगन दूध से पतला होता है। चावल का दूध सोया दूध की तुलना में अधिक सुपाच्य होता है, बादाम और अन्य नट्स के दूध की तुलना में हल्का होता है।

इसे बनाने के लिए पके हुए चावल को पानी के साथ पीस कर छान लिया जाता है। पूरी विधि आप यहाँ पढ़ सकते हैं चावल दूध बनाने की विधि

इस दूध को मीठा बना कर सीधा ही पीया जा सकता है।

Hazelnut milk

इसका दूध भी काजू या बादाम के दूध की तरह ही बनाया जाता है। पूरी विधि आप यहाँ पढ़ सकते हैं हेज़लनट दूध की विधि

Hemp seed milk

इसमें स्वाभाविक रूप से कैल्शियम (डेयरी दूध की तुलना में अधिक कैल्शियम), प्रोटीन होता है और इसमें आदर्श 1: 3 अनुपात में ओमेगा 3 और 6 आवश्यक फैटी एसिड पाये जाते हैं जो मस्तिष्क के लिए लाभदायक हैं। इसमें anti inflammatory गुण भी पाए जाते हैं।

Mellon seeds milk

बीजों को सीधे पानी के साथ पीस कर यह दूध बनाया जा सकता है।

Plant based milk हमारे शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक होने के साथ साथ पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। जहाँ कोई भी पशु-दूध बिना क्रूरता के प्राप्त नहीं होता यह वीगन दूध किसी भी जानवर को हानि पहुंचाए बिना ही प्राप्त होते हैं।

कैसे आपका शाकाहारी भोजन बन सकता है निरवद्य (Vegan)?

Be the first to reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *